November 11, 2020

Heart problem se kaise bache

हार्ट हमारे शरीर का एक बहुत ही नाजुक अंग होता है जिससे हमारी सांसे जुडी हुए होती है। अगर हार्ट में ही कोई परेशानी हो जाये तो आप क्या करेंगे।

दिल की बीमारी से तात्पर्य ऐसी समस्या से है, जो दिल को प्रभावित करती है। हृदय रोग (दिल की बीमारी) भारत में ज्यादातर लोगों की मौत का कारण बन गया है। एक अध्ययन के अनुसार 1000 लोगों में से 272 लोगों की मौत दिल की बीमारी (Heart Disease) से हो जाती है और यह आंकडें अगले 26 सालों में दोगुणा हो सकते हैं।

हार्ट अटैक के प्रकार ( Types of heart attack )

  1. कोरोनरी आर्टरी डिजीज- यह हृदय रोग का सामान्य प्रकार है, जिसे आम भाषा में कोरोनरी धमनी रोग के नाम से जाना जाता है।
  2. दिल का दौरा (Heart Attack) पड़ना- यह सबसे जान-मानी बीमारी है, जिससे अधिकांश लोग पीड़ित होते हैं।
  3. दिल का खराब (Heart Failure) होना-  जैसा कि नाम से ही स्पष्ट है, यह ऐसी दिल की बीमारी है, जिसमें दिल सही तरह से काम करना बंद कर देता है।
  4. दिल की धड़कनों का अनियमित रूप से चलना- कई बार दिल की धड़कने धीमे या फिर तेज़ गति से चलने लगती है, इसे भी दिल की बीमारी के रूप में परिभाषित किया जाता है।

हृदय रोग के कारन ( Causes of Heart Disease )

  1. उच्चा रक्तदबाब ( हाई ब्लड प्रेशर )
  2. मोटापा या अधिक वजन होना
  3. तनाव होना
  4. धूम्रपान करना
  5. डायबिटीज ( शुगर ) होना

हार्ट अटैक के लक्षण ( Symptoms of Heart attack )

  1. दिल की धड़कन का तेज होना
  2. साँस लेते वक्त तकलीफ होना
  3. पसीना आना
  4. सोचने समझने की ताकत पर असर होना
  5. शरीर में दर्द होना

ह्रदय रोग से बचने के उपाय

  1. व्यायाम करना- यह ह्रदय रोग का इलाज करने का सबसे सामान्य तरीका होता है, जिसके काफी अच्छे परिणाम होते हैं।
  2. दवाई लेना- डॉक्टर दिल के मरीज को दवाई भी देते हैं।
  3. ईसीजी या ब्लड टेस्ट कराना- ह्रदय रोग से निजात पाने में कुछ टेस्ट जैसे ईसीजी या ब्लड टेस्ट कारगार साबित होते हैं।
  4. डाइट प्लान बनाना- कई बार डाइट प्लान में बदलाव करके में दिल की बीमारी का इलाज किया जा सकता है।
  5. सर्जरी कराना- जब किसी व्यक्ति को किसी भी तरीका से आराम नहीं मिलता है, तब डॉक्टर उसे सर्जरी कराने की सलाह देेते हैं।

ह्रदय रोग से बचने में मददगार है ये फ़ूड ( Healthy food for Heart attack )

टमाटर - इसमें लाइकोपीन होता है। यह कोलेस्ट्रॉल लेवेल को काम करके हार्ट अटैक से बचाता है.

लौकी - इसमें भी कोलेस्ट्रॉल निर्मल होता है जो हार्ट के लिए बहुत फायदेमन्द होता है।

ब्लैक टी - ब्लैक टी एंटी ऑक्सीडेंट का एक अच्छा सोर्स है जो कोलेस्ट्रोल को काम करता है और हार्ट हो बचता है।

अनार – इसमें फाइटोकेमिकल्स होते हैं। इससे आर्टरीज़ में ब्लड सप्लाई प्रॉपर होता है और हार्ट प्रॉब्लम से बचाव होता है।

तरबूज - इसमें एमिनो एसिड होता है जो हार्ट को बचने में मदद करता है।

छाछ -  इसमें एंटीऑक्सीडेंट्स होते हैं। इससे कोलेस्ट्रॉल लेवल कम होता है और हार्ट अटैक से बचाव होता है।

ऑरेंज जूस - इसमें विटामिन C होता है। यह आर्टरीज़ में ब्लड सर्कुलेशन इम्प्रूव करता है और हार्ट की बीमारियों से बचाता है।

दालचीनी - दालचीनी भी एंटी ऑक्सीडेंट का अच्छा सोर्स है जो हार्ट को बचता है.

लहसुन - इसमें एलिसिन होता है। यह ब्लड क्लॉटिंग से बचाता है जिससे हार्ट अटैक के चांस कम होते हैं।

अलसी - इसमें अल्फ़ा लिनोलेनिक एसिड होता है। यह कोलेस्ट्रॉल लेवल कम करके हार्ट अटैक से बचाता है।

ह्रदय रोग में सावधानी बरते ( Precautions of Heart Attack )

  1. संतुलित भोजन करना- ह्रदय रोग से पीड़ित व्यक्ति को संतुलित भोजन करना चाहिए।
  2. व्यायाम करना- दिल की बीमारी में व्यायाम करना उपयोगी उपाय तरीका साबित हो सकता है।
  3. सामान्य वजन को बरकरार रखना- इस बीमारी से पीड़ित व्यक्ति को अपने वजन पर विशेष ध्यान रखना चाहिए।
  4. नशीले पदार्थों से दूरी बनाना- किसी भी ह्रदय रोगियों के लिए नशीले पदार्थ का सेवन करना नुकसानदायक साबित हो सकता है, इसलिए उसे इनका सेवन नहीं करना चाहिए।
  5. रक्तचाप (Blood Pressure) और शुगर स्तर (Sugar Level) को सामान्य बनाए रखना- दिल की बीमारी से पीड़ित व्यक्ति के लिए अपने रक्तचाप और शुगर स्तर को सामान्य रखना काफी महत्वपूर्ण होता है।
Pooja
Pooja Gupta

Leave a Reply

Hinglish Blog is one of the greatest articles collections from many hindi bloggers how write there interested research in a simple Hindi language
© Copyright 2019 - Hinglish Blog - All Rights Reserved
linkedin facebook pinterest youtube rss twitter instagram facebook-blank rss-blank linkedin-blank pinterest youtube twitter instagram